Anger Management

How to Control Anger जीवन में ऐसे करें गुस्सा जो Successful Personality बना दें..

व्यक्तित्व विकास

How to Control Anger जीवन में ऐसे करें गुस्सा जो Successful Personality बना दें..

How to Control Anger
How to Control Anger

How to Control Anger (Anger Manegment) हेलो दोस्तों अगर आपको भी गुस्सा आता है. या कभी-कभी आप गुस्सा करते हैं. तो ये महत्वपूर्ण लेख आपके लिए काफी Helpful  साबित हो सकता है. जब कभी हमारे मन मुताबिक नहीं होता है या कोई नहीं करता है. तब मानसिक शक्ति स्वभाविक उत्तेजित प्रतिक्रिया देती है. जिसे हम गुस्सा कहते हैं.

 दोस्तों इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि वाकई में गुस्सा करना सही है? या गलत. क्या गुस्सा करने से जीवन बदला जा सकता है. इस महत्वपूर्ण लेख में मौजूदा जानकारी को जानने के बाद आपका गुस्सा आपकी कमज़ोरी नहीं ताकत बन जाएगा.

 दोस्तों इंसान अपने गुस्से को तीन कारणों की वजह से व्यक्त करता है-

1.मन मुताबिक काम ना होना

हर इंसान अपने कार्य को बखूबी करना चाहता है. जल्दबाजी में या किन्हीं अन्य कारणों की वजह से काम इच्छा अनुसार नहीं होता है. तो सबसे ज्यादा पहले खुद पर ही गुस्सा आता है. इसका क्या परिणाम होता है. ये आपको आगे इसी लेख में जल्द पता चलने वाला है.

2.दूसरों के द्वारा इच्छा काम करना

दूसरे व्यक्तियों के द्वारा आपकी इच्छा विरुद्ध काम करने या फिर आपके काम में उनके द्वारा दख़लअंदाज़ी करने पर  दूसरों पर गुस्सा आता है. और दूसरों पर जब गुस्सा आता है तब उसी समय पर की गई प्रतिक्रिया का निर्णय है बहुत कुछ विपरीत यह सामानुभव हो सकता है.

3.अपमान करना

अन्य व्यक्तियों के द्वारा अपने नाम,प्रतिष्ठा को गाली देना या अपमानित शब्दों का प्रयोग करना गुस्से को बढ़ावा देता है.

दोस्तों जब गुस्सा आता है, तब दिमाग पर संकट छा जाता है. और हाथ पैर कांपने लगते हैं. और व्यक्ति स्वभाविक लड़ना शुरू कर देता है. या फिर बाद में पछताने वाले काम करता है. इसलिए हमारे ज्ञानवर्धक सिद्धांतों में गुस्से को इंसान के लिए घातक करार दिया गया है. तो अब ऐसा क्या करें कि यह हमारे जीवन को ही बदल दे.

 दोस्तों इसी लेख में आपको इसका समाधान मिलने वाला है.

 

जब गुस्सा बढ़ जाता है, तब सबसे ज्यादा दिमाग को प्रभावित करता हैं और इंसान की सोचने समझने की शक्ति कम हो जाती है और इस परिस्थिति में या तो ज़ुबान चलती है या फिर हाथ. पर परंतु दोनों का ही चलना खतरे से खाली नहीं है.

 गुस्से में इंसान कुछ भी करने को तैयार होता है. तो क्या गुस्सा सही है? या फिर गलत.

 दोस्त गुस्सा आना सही होता है. जब गुस्सा आता है तब जो Action की जाती है. उसका रिजल्ट आपकी Life Change  कर सकता है.

 आप को इस तरह से समझिए अगर आप गुस्से  में तुरंत एक्शन करते हैं और अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पाते हैं. तो आपके लाइफ चेंज होगी. बर्बादी की तरफ बढ़ जाएंगे.

 और अगर आप गुस्से पर काबू कर लेते हैं तो भी आपकी लाइफ चेंज होगी. आप  कामयाबी के रास्ते पर चल पड़ेंगे.

 दोस्तों आपको यहां पर गुस्से को पालने की कला सीखनी है. अगर आप गुस्से को पालने की कला सीख जाते हैं तो आप को महान बनने से कोई नहीं रोक सकेगा. क्योंकि गुस्सा आपको ताकत देता है. आपकी जिद्द को बढ़ाता है. आप के हौसले को बढ़ाता है. ये बुरा नहीं है. गुस्सा अपने आप में कई प्रकार की Super Power  रखता है.

आपने सुना होगा जब गांधी जी को अंग्रेजों ने ट्रेन से निकाल दिया था और अपमानित भी किया यहां पर साधारण इंसान लड़ना शुरू कर देता हैं. पर गांधी जी ने ऐसा नहीं किया और अपने गुस्से को संभालते हुए ठान लिया कि मैं तुम्हें देश से ही बाहर निकाल दूंगा.

रतन टाटा को जब टाटा इंडिका कार नहीं चली तब  Ford कंपनी के पास मदद मांगने के लिए जाना पड़ा. तब वहां पर रतन टाटा अपमान भरे शब्दों में कहा गया कि अगर आपको कार बनाना नहीं आता है, तो आप कार क्यों बनाते हो?  इस पर रतन टाटा को काफी बुरा लगा परंतु उन्होंने उस वक्त कोई प्रतिक्रिया नही देते हुए अपने देश वापस लौट आये और उन्होंने ठान लिया कि मैं इसी कार को सफल बना लूँगा. और उन्होंने ऐसा किया भी आज Ford  कंपनी को टाटा ग्रुप ने खरीद लिया.

दोस्तों ऐसे हमारे भारत में बहुत सारे उदाहरण हैं. जिन्होंने अपने गुस्से पर तुरंत प्रतिक्रिया  ना करके काबू में किया और गुस्से को पालने की कला की वजह से उन्होंने अपना नाम आज इतिहास में दर्ज करवा लिया.

दोस्ती वो गुस्सा ही था जो काबू में किया गया.और  उठाने की जुनून पावर ने इन्हें महान बना दिया.

दोस्तों हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करते हैं. ऐसे गुस्सा करेंगे तो कभी जीवन में Big Success Achivment  नहीं ले पाएंगे.

गुस्से को पालना व सींचना सिंखो  तब जाकर Success  मिलेगी और वो Success आपसे दुनिया की कोई ताकत नहीं छीन सकती.

More Read

अपने हुनर को कैसे पहचाने ? 5 तरिको से जानें

मुश्किल परिस्थितियों को अवसर में कैसे बदले?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *