Swami Vivekananda Thoughts

Swami Vivekananda Thoughts अब पल भर में विकसित होगी 3 अच्छी आदतें

Inspiration Articles

Swami Vivekananda Thoughts अब पल भर में विकसित होगी 3 अच्छी आदतें

Swami Vivekananda Thoughts in Hindi

Swami Vivekananda Thoughts
Swami Vivekananda Thoughts

Swami Vivekananda Thoughts खुद के भीतर अच्छी आदतें हमेशा विकसित करते रहना पहले से ही एक अच्छी आदत है। स्वामी विवेकानंद जी ने खुद में अच्छी आदते विकसित करते रहने वाले व्यक्तियों को पुरुषार्थ का सही लाभ लेने वाला बताया हैं।

स्वामी जी के विचारों की पुरी दुनिया कायल हैं, और हो भी क्यों नहीं। स्वामी जी के विचार ही ऐसे होते है, जो जीवन को नई दिशा जो दिखते हैं। आज आप जानेगे स्वामी के अच्छी आदतों के पिटारे में से कुछ खास और दिलचस्प अच्छी आदतें। इन्हे जानकर आप अच्छी आदतों को और बेहतर बना पाएंगे।

स्वामी जी के साहित्य कोष में से तीन आदतों का आज हम उल्लेख कर रहे है। जिसमे पहली आदत हैं:-

1.देने का सही तरीका (Right Way to Give )

स्वामी जी बचप्पन से ही होनहार थे। उनका ज्ञान को ग्रहण करने का तरीका बेहद खास और दिलचस्प रहा हैं। स्वामी जी ने एक बार अपनी माँ से कहा, माँ में लोगो को कुछ देना चाहता हूँ। माँ ने पूछा, आप लोगो को क्या देना चाहते हो? तो स्वामी जी ने कहा, मैं लोगो को शिक्षा व ज्ञान सही परिभाषा बताना चाहता हूं। तो माँ ने कहा, ठीक है, मेरा एक छोटा सा काम कर देंगे। स्वामी जी ने कहा माँ आप बताइये क्या करना है। तो माँ ने कहा, मुझे एक चाकू दे दो सब्जियाँ कटनी है। स्वामी  जी ने चाकू का नुकीला हिस्सा खुद पकड़कर माँ को हैंडल वाला  भाग दे दिया।

स्वामी जी की माँ ने कहा, अब आप दुनिया को कुछ देने लायक बन गए हो। तो स्वामी ने माँ से पूछा आपने ये सब कैसे जान लिया। की अब में कुछ दे सकता हूँ। तब माँ ने कहा, तुमने चाकू का नुकीला हिस्सा खुद पकड़ा और सुरक्षित हिस्सा मुझे दिया यानी तुम दुनिया को कुछ ऐसा नहीं बताओगे, जिससे उनका कोईं नुकसान हो। अब आप दुनिया को बहुत कुछ देने लायक बन गए हो।

दोस्तों, काफी लोग असहाय लोगो की मदद करते है। और अपनी व्यक्तिगत पहचान बनाने के लिए या ऐसे कहे खुद को दानी शाबित करने के लिए उन गरीबो के साथ छल कपट करते है। उनके साथ फोटो खींचकर Social Media पर Share करते है। और दूसरों से झूठी हमदर्दी बटोरने में कोई कमी नहीं छोड़ते।

दोस्तों स्वामी जी कहते है, अगर किसी को कुछ देना ही है, तो दिल से दो और उस लेने वाले की भावनाओ में भी खुद को भामाशाह शाबित मत करो। क्योकि दोस्त दान देने की प्रेरणा जो आपके पास है, वो प्रभु की आपको का भेंट है। इसका दुरपयोग मत करो। और कुछ देने से पहले अपने मन को निर्मल रखो। आपके देने के भाव किसी को नुकसान पहुंचने वाले न हो। जैसे किसी जानवर को आप गुड़ खिलाना चाहते हो, पर गुड़ को पत्थर की तरह देने से वो डर जायेगा।आपके पास नहीं आएगा।

2 .आदेश देने का तरीका ( Ordering Method )

आदेश देना हर उस शख्स की मज़बूरी होती हैं, जिसे अपना काम दुसरो से सिद्ध करवाना होता है। काम में सही व जल्द परिणाम चाहने हेतु, इंसान को आदेश सम्बन्धी काम करने पड़ते हैं।

स्वामी जी का मानना है, सामने वाले व्यक्ति को अगर दिमाग से सोचकर आदेश दिया जाता है, तो उस व्यक्ति का दिमाग ही प्रभावित होता है। और अगर दिल से आदेश दिया जाए, तो सामने वाले व्यक्ति के दिल के साथ भावनाओ को भी आकर्षित करेगा। दोनों तरीके अपनाने के बाद परिणाम कि बात करें तो दिल वाला पल्लड़ा भारी क्यों होता है?

दोस्तों,अगर एक इंसान चाहे कितना भी बड़ा क्यों ना हो, सामने वाले व्यक्ति को गुलाम परवर्ती से आदेशित करता है, तो खुद को दूसरों की नजर में तानाशाही ही बनाएगा।

दोस्तों, अगर आप जीवन में कुछ बड़ा करने की राह पर चल रहे हो, तो आदेश देने की कला में निपुर्णता आपको बड़ा जरूर बनाएगी। कभी भी सामने वाले को, आदेश देने से पहले खुद की क्या प्रतिक्रिया रहेगी इसे जरूर ध्यान रखें।

3. भावनाएं शेयर करने का तरीका ( Right Way to Share Fallings)

अगर, एक इंसान भावनाओं के साथ अपनी बात दूसरों के सामने रखता है, तो सामने वाले को उस बात को समझने के लिए भावना का ही उपयोग करना पड़ेगा। तभी आपकी बात समझ पाएगा। और यह भी जाने क्रोध से कही गई बात सामने वाले के क्रोध को जगाने पर मजबूर करती है।

दोस्तों स्वामी जी का कहना है, अगर एक इंसान को अपनी भावनाएं शेयर करनी है, तो भावनाएं शेयर करने से पहले छटनी जरूर करना। क्योंकि कुछ भावना ऐसी भी होती है, जिन्हें किसी के सामने शेयर नहीं करें तो ही अच्छा है।

अगर आप किसी के सामने खुद को कमजोर समझने वाली भावनाएं बता देंगे, तो सामने वाला कुछ देर के लिए अपनी स्थिति से उसका आंकलन जरूर करता है। मन में मुस्काएगा, कि मैं इससे ज्यादा बेहतर हूँ। इसलिए दोस्त,आपकी कमजोरी पर सामने वाले को मुस्कुराने का मौका कभी मत देना। अपनी कमजोरियां और बुरी परिस्थितियों का जिक्र कभी भी नहीं करना चाहिए। 

More Read

स्वामी जी ने बताये सफलता के 4 सिद्धान्त और बलिदान

जीवन में ऐसे करें गुस्सा जो Successful Personality बना दें..

 

    

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *