IAS Motivational Story in HIndi

A Motivational Story in Hindi 2 बिघा जमीन का मालिक बना IAS

मोटिवेशन कहानीयाँ

 2 बिघा जमीन का मालिक रवि कैसे बना IAS

Motivational Story in Hindi

IAS Motivational Story
IAS Motivational Story

Motivational Story in Hindi दोस्तों जिनके सपनों में आग होती है, उनके लिए धुआ और पानी भी घी का काम करती है। सपना वो होता है, जो नींद नहीं आने देता। आज एक ऐसी ही Powerful Motivational Story जो Inspiration के साथ-साथ बहुत बड़ी शिक्षा देती है।

रवि एक होनहार लड़का है। पर जब एक बेटे के सिर से पिता का सहलाता हुआ हाथ रुक जाए, तो सपने बिखरते नजर आते हैं। रवि ने अपने आपको IAS के ओहदे पर देखने का बड़ा सपना सजना शुरू कर दिया। इधर बहन अपनी शादी का इंतजार कर रही है।

ऐसे में रवि ने अपने पिता की 2 बीघा जमीन में खेती करना जारी रखा। पर क्या यह इनकम रवि के सपनों को हकीकत में बदल सकती थी?  नहीं! मां ने दूसरे खेतों में मजदूरी करना शुरू किया, तो कुछ पैसों से घर खर्च चलना जारी रहा।

Motivational Story in Hindi

अब रवि अपनी फीस व कुछ किताबों के लिए बिल्कुल भी पैसा नहीं जुटा पा रहा था। परंतु रवि के सपने दृढ़ इरादे व कुछ तंग आर्थिक स्थिति के आगे झुकना नहीं चाहते थे। परन्तु रवि करे तो क्या करें।

रवि की बहन को रवि पर पूर्ण भरोसा था। बहन ने सगाई में ससुराल से कुछ गहने आए थे, उन्हें बेचकर रवि के लिए फीस भरने की व्यवस्था की। दोस्तों ने भी रवि की Help कि और कुछ अपनी Books रवि को पढ़ने के लिए दे दिया करते थे।

एक दिन मां दूसरे के खेत में काम करते हुए चोटिल हो गई। और उसी दिन रवि का फाइनल Exam था। रवि के मन में मां के लिए बहुत तकलीफ़ थी। तकलीफ़ को सहन कर रवि ने Exam दिया।

कुछ दिनों बाद, रवि सो रहा था। तभी उसकी बहन उसे निगाहों से सहला रही थी। आंखों से आँसू रवि के गालों पर गिरने लगे। रवि की नींद खुल गई। तो देखा बहन आंसू बहा रही है। रवि ने कहा, दीदी आप को क्या हो गया। रो क्यों रहे हो?

दीदी ने कहा पगले तू पास हो गया। ये देख तेरा रिजल्ट आ गया। ये मेरी आंखों में इसी खुशी के आँसू है। रवि ने लंबी सांस के साथ बहन को गले लगा लिया। मां को खुशख़बरी दी तो मां की दुआओं में अमृत की वर्षा होने लगी । Inspirational Story in Hindi

आज रवि ने अपनी परिस्थिति को चीरते हुए अपने पाले हुए सपने को आज सहकार होते देख रहा था।

दोस्तों जीवन में चाहे कितनी भी तकलीफ़ हो वह अपनी जिद व दृढ़ता के आगे कभी भी नहीं टिक सकती। क्योंकि एक इंसान ही है जो इन सब से बेहतर लड़ सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *