Motivational Stories | Motivational Story in Hindi | सरिता ने अपनी आबरु बचाई

मोटिवेशन कहानीयाँ

Motivational Stories | Motivational Story in Hindi | सरिता ने अपनी आबरु बचाई

सरिता, एक कॉलेज में पढ़ा कर अपना गुजारा करती थी। वो हमेशा अपने सभी स्टूडेंट्स का ख्याल व पढ़ाई में पूरा ध्यान रखी थी। एक दिन उसकी स्टूडेंट रचना तीन दिन से कॉलेज नहीं आ रही थी। सरिता को दूसरे बच्चों से पता चला कि वह तीन दिन से बीमार है। वो दलित समाज से थी। (अपनी आबरु बचाई Bravery Girl Story in Hindi) Motivational Stories  

Motivational Stories
Motivational Stories

सरिता उससे मिलने उसके गांव में जाती है। सरिता रचना से मिलकर वापस आ रही थी,तब उसे बस से शहर आना था। तो वह बस स्टैंड पर बस का इंतजार कर रही थी। तभी एक गाड़ी उसके पास आकर रूकती है। उस गाड़ी में चार बदमाश लड़के बैठे थे। उन चारों ने शरीफ बनकर सरिता से कहा, अरे मैडम! “आप यहां आइए हम शहर की तरफ ही जा रहे हैं। आपको हम छोड़ देंगे .” सरिता ने उन्हें मना किया कहा, “नहीं मैं बस से ही आ जाऊंगी।”

उन लड़कों ने कहा, अरे, “मैडम बस अभी दो घंटे बाद आएगी। तब तक तो हम शहर पहुंच जाएंगे।” सरिता ने उनकी बात मान ली और गाड़ी में बैठ गई। रास्ते में उन चारों ने शराब, सिगरेट व आपस में गाली गलौच से बात करना शुरू कर दिया। रास्ते में करीब तीन किलोमीटर तक जंगल पड़ता है। उन्होंने मैडम से कहा, “मैडम, यह जंगल का रास्ता सीधा शहर के पास जाकर हाईवे पर मिलता है, हम जल्दी शहर पहुंच जाएंगे।” तो उन्होंने गाड़ी को जंगल के रास्ते की तरफ गाड़ी घुमा दी . उन चारों लड़कों ने सरिता को छूना शुरु कर दिया और गंदे कमेंट करने लगे।

उन्होंने करीब एक किलोमीटर दूर जाकर जंगल में गाड़ी रोक ली और सरिता पर टूट पड़े। सरिता को कुछ सेल्फ डिफेंस के टिप्स आते थे। इसलिए सरिता ने उनका मुकाबला किया और उन से छुड़ाकर भागने लगी . उसी रास्ते पर वापस भागने लगी . जहां से उन्होंने गाड़ी जंगल की तरफ घुमाई थी। सरिता ने उन चारों लड़कों को ऐसी जगह मारा कि वह थोड़ी देर तो दर्द से करहाते रहे . सरिता भागने में कामयाब हो गई।

Romantic Love Story दिव्यांग लड़की से प्यार

उन चारों लड़कों ने जल्दबाजी में कार को भगाना शुरू किया कि हड़बड़ी में गाड़ी गड्ढे में जाकर फंस गई। अब कार वहां से हिल नहीं रही थी। तब चारों ने ऐसे ही दौड़ना शुरू कर दिया .जब वे दौड़ने लगे तब तक सरिता काफी दूर जा चुकी थी। सरिता ने अपनी आबरू बचा ली और हाईवे पर जाकर बस में बैठकर शहर को चली आइ। सरिता ने अपनी आप बीती पुलिस स्टेशन में बताई . पुलिस ने तलाशी कर चारों लड़कों को गिरफ्तार कर लिया। 

Motivational Stories

सरिता की बहादुरी ने उसकी आबरू की रक्षा की . आज हर एक लड़की को सरिता की तरह मजबूत बनना होगा ताकि कोई भी मनचला इनका बाल भी बांका नहीं कर सके .

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *