स्वामी विवेकानंद के विचार

स्वामी विवेकानंद | स्वामी विवेकानंद के विचार | swami Vivekananda thought

व्यक्तित्व विकास

स्वामी विवेकानंद | स्वामी विवेकानंद के विचार | swami Vivekananda thought

विचारों के चमत्कार स्वामी विवेकानंद के विचार

दोस्तों, आज एक व्यक्ति जिस स्थिति का सामना कर रहा हैं। तथा जिस स्थिति में मौजूद हैं। वह स्थति उसके विचारों का ही परिणाम है। चाहे वो स्थति अच्छी हो या फिर बुरी। क्योकि एक इंसान को अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए विचारों को सुदृढ़ बनाने की दिशा में कोशिश हमेशा जारी रखनी होती है। एक इंसान इस कोशिश में कितना कामयाब होता है। यह उसके परिणाम में छलक जाता है। (स्वामी विवेकानंद | स्वामी विवेकानंद के विचार | swami Vivekananda thought)

 दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में स्वामी विवेकानंद जी द्वारा बताए गए विचारों के चमत्कार सम्बन्धी कुछ टॉपिक पर उल्लेख होने वाला है। यह आर्टिकल पर्सनल डेवलपमेंट personal development विचारों पर आधारित है।

 दोस्तों स्वामी जी कहते हैं:- “एक इंसान में इंसानियत का निर्माण छोटे-छोटे विचारों के समावेश से बनता है। एक इंसान बुरा कार्य करता है। तो उसकी मनस्थिति उस वक्त बुरी होती है। जब दूसरे इसका परिणाम देखते हैं। तो सभी लोगों की मनस्थिति भी प्रभावित होती है।”

 जैसे आपने अखबार में किसी व्यक्ति के द्वारा किए गए अपराध जैसे:- बलात्कार,मर्डर, चोरी आदि की घटना पढ़ते हैं। तब पढ़ने वाले व्यक्ति की भी मनस्थति काफी प्रभावित होती है। तथा उस आपराधिक व्यक्ति के प्रति घृणा की स्थिति उत्पन्न होने लगेगी। अब आप सोचिए कि एक इंसान का बुरा विचार कितने लोगों को प्रभावित करता है। अगर इसी श्रंखला में कोई व्यक्ति अच्छा काम करता है तो सब की मनस्थिति यहाँ भी प्रभावित होती है।

 जैसे 2020 के कोरोना काल लॉकडाउन में हजारों मुसाफिरों की यात्रा का रथ बॉलीवुड स्टार सोनू सूद ने चलाया। जब इसके बारे में सुनते हैं, विचार करते हैं तो सोनू सूद के प्रति हर व्यक्ति के मन में सच्चे और अच्छे विचार आएंगे। सोनू सूद का एक विचार कितने लोगों को प्रभावित कर गया।

दोस्तों स्वामी जी कहते हैं:- “जब एक इंसान की पहचान करनी हो तो उसके बड़े-बड़े कार्य मत देखो। क्योंकि कोई भी मूर्ख व्यक्ति वक्त बलवान होने पर अच्छा प्रदर्शन कर सकता है। परंतु दूसरे छोटे छोटे कार्य, छोटे लोगों के साथ व्यवहार ही उसके चरित्र का प्रमाण दे सकता है।” दोस्तों स्वामी जी ने विचारों के चमत्कार के कुछ महत्वपूर्ण फ़ायदे बताए हैं। जिनमें से इस आर्टिकल में हम दो फायदों पर चर्चा करने वाले हैं। जिनमें पहला चमत्कार है:-

 1. तनावपूर्ण जीवन से मुक्ति ( Freedom from stressful life)

 दोस्तों हम अधिकतर ऐसे लोगों पर दया का भाव रखते हैं, जो बुरी स्थिति को फेस कर रहे होते हैं। पर उसकी स्थिति का मुख्य कारण उसके विचार ही है। जो कभी उसने बदलने की कोशिश नहीं की। दोस्तों स्वामी जी कहते हैं:- “अगर एक इंसान बुरे विचारों की तरफ लगातार बढ़ रहा है, तो वह अपने लिए दुख ही खरीद रहा है।” उसे बर्बाद होने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती।अगर तनावपूर्ण जीवन से बाहर आना चाहते हो तो विचारों में खुश रहने की सभी कलाओं पर विचार करना शुरू कर दो। तनाव में रहना आपकी उम्र को कम करना है। कम उम्र के साथ ही रोगी होना यह कहां तक ठीक होगा।

 दोस्त आप विचारों की शक्ति का अगर आकलन करना चाहते हैं, तो आज देश दुनिया की कोरोना से हो रही स्थिति देख लो। एक व्यक्ति के विचार ने कोरोना वायरस का बीज उत्पन्न किया और पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया। कुछ अफवाह  भरे विचारों ने दुनिया को पैनिक बना दिया। कुछ लोगों के पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले विचारों ने लोगों को आईसीयू में पहुंचा दिया। यह सब विचारों का ही परिणाम है।

स्वामी जी द्वारा शुद्ध विचारों की श्रंखला में शुद्ध विचार का दूसरा चमत्कार है:-

2. सफलता का ग्राफ बढ़ने लगेगा (The graph of success will increase)

 दोस्तों अगर आप अच्छा सोच सकते हैं, तो जाहिर है आप काम भी अच्छा ही करेंगे। धीरे-धीरे सफलता आपकी और आकर्षक होने लगेगी। देश दुनिया में जितने भी मानव निर्मित निर्माण दिखाई दे रहे हैं। वह सभी अच्छे विचारों का ही परिणाम है। दोस्तों स्वामी जी  कहते है:- “आज अगर आप  सफल हैं, तो आपके विचार धन्य है। अगर सफलता की खोज में है, तो विचारों में परिवर्तन करो। असफल हो चुके हो तो, अपने विचारों की समीक्षा करो और पुनः कोशिश करो। सफलता आपका दरवाजा जरूर खाएगी।”

तो दोस्तों यह था आज का आर्टिकल जिसमें स्वामी विवेकानंद जी ने विचारों के चमत्कार बताएं हैं।  ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए  आप नीचे दी गई सारणी पर क्लिक कर सकते हैं। तथा वीडियो भी देख सकते हैं।

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *