Way to success

Way to Success | कौन से बच्चे बनते हैं बड़े होकर सफल, अमीर, और भारत रत्न के हक़दार

Inspiration Articles

Way to Success | कौन से बच्चे बनते हैं बड़े होकर सफल, अमीर, और भारत रत्न के हक़दार

Way to Success
Way to Success

हेलो दोस्तों, आप भी सफलता की ऊंचाइयों को जरूर छूना चाहते हैं। हो सकता है आप अमीर हैं, या फिर गरीब। परंतु आज इस आर्टिकल में आपको बहुत कुछ सीक्रेट पता चलने वाला है। यह सीक्रेट उन लोगों पर आधारित है, जो पहले गरीब थे और आज भारत के आईकॉनिक बन चुके हैं। काफी लोगों के आइडियल बन चुके हैं। आज हम इन गरीब बच्चों की सफलता राज ( Way to Success ) जानने वाले हैं  जो बड़े होकर अमीर, सफल, और सर्वोच्च सम्मान तक पहुंचते हैं।

दोस्तों, आप यह तो जानते ही हैं कि भारत में जितने भी सफल लोग और जिन्होंने पद्मश्री, पद्मभूषण और भारत रत्न जैसे सर्वोच्च सम्मान को प्राप्त किया है। उनमें से 80% लोग बचपन में भरपेट खाने को तरसते थे। इनकी सफलता का राज ( Success Mantra) आप जरूर जानना चाहोगे। अगर आपके पास कुछ मिनटों का समय है। तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ना। आप को बहुत बड़ा राज पता चलने वाला है।

 किसी महान लेखक ने लिखा है, “गरीब होना अभिशाप नहीं है, पर गरीबी को अपनी कमजोरी समझना इसके आगे घुटने टेकना जरूर अभिशाप है।” 

 मैं, आपको डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम और बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का उदाहरण देना चाहूंगा। डॉ कलाम एक बहुत ही गरीब परिवार में पले बढ़े और बाबासाहेब भी एक गरीब परिवार के ही सदस्य थे। आज वह दोनों भारत रत्न जैसे सर्वोच्च सम्मान तक पहुंच चुके हैं। यह दोनों गरीब बच्चे ही थे। अब आप सोच रहे होंगे कि यह गरीब बच्चे ऐसा क्या करते हैं? कि बड़े होकर अमीर, सफल और सर्वोच्च सम्मान तक पहुंचते हैं। तो आइए जानते हैं, यह गरीब बच्चे ऐसे कौन से चार काम करते हैं। जिनकी बदौलत यह सब कुछ हासिल कर पाते हैं। आप इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़िएगा इन बच्चों द्वारा किया गया पहला काम है>>>>

1. वर्तमान परिस्थितियों को हराना (Defeating current circumstances)

 दोस्तों, इस जीवन में सबसे बड़ा दुख है गरीब होना। परंतु इससे भी बड़ा दुख है, गरीबी से निकलने की नहीं सोचना। अगर आप भारत के ऐसे सफल लोगों की बायोग्राफी पढ़ेंगे तो पाएंगे कि इनका बचपन शायद आपसे भी ज्यादा संघर्ष से भरा हुआ था। कभी-कभी तो इनको बिना खाना खाए सोना पड़ता था। गरीब बच्चे ऐसी परिस्थितियों से रोज लड़ते थे। इनका संकल्प इन बुरी प्रस्तुतियों के आगे कभी भी नहीं झुका।

एक व्यक्ति सोचता है, उसके साथ बुरे से बुरा क्या हो सकता है। परंतु यह बच्चे हर रोज बुरे वक्त का सामना कर रहे होते हैं। इन बच्चों के सपनों में वह दम था। जो बुरी परिस्थतियों से लड़ने में इनकी हिम्मत बनता था। इन लड़कों का बचपन में ही मकसद बन चुका था कि “जिंदगी में कुछ बनना है, वर्तमान परिस्थितियों से लड़ना है।” अपने सपनों पर कभी भी इन्होंने वर्तमान परिस्थितियों की छाया नहीं पड़ने दी और इसी के बदौलत आज आपके सामने सफल व्यक्ति के रूप में उभर रहे हैं।

आप पढ़ रहें हैं Way to Success and Success Mantra गरीब बच्चो की सफलता के राज 

2. संकल्प में कोई विकल्प नहीं (No option in resolution)

 जो व्यक्ति भरपेट खाना खा रहा होता है और जो भूखा है, इन दोनों के संकल्प में रात दिन का अंतर होता है। खाली पेट वाले का संकल्प भरे पेट वाले से ज्यादा “दृढ़ और विकल्प रहित होता है।” एक बात दोस्तों ध्यान से पढ़े “जिनका समय दाव पर लगा होता है। वह अपने समय को बचाने के विकल्प ढूंढ लेते हैं। परंतु जिनकी जिंदगी दांव पर लगी होती है वह कभी भी विकल्प नहीं ढूंढ सकते। इन गरीब और सफल लोगों की कामयाबी का मुख्य राज है “ये लोग समय पर नहीं, जिंदगी पर दाव लगाते हैं।”

3. सच्चे उद्देश्य पर मेहनत (hard work on true purpose)

 जिन लोगों के पास खाने को दो वक्त का भरपेट भोजन है, रहने को पक्का मकान है, पहनने को नए कपड़े हैं और जो इन सब के विपरीत हैं, इन दोनों की मेहनत में जमीन आसमान का अंतर होता है। जो गरीब बच्चे बड़े होकर सफल बनते हैं, “उनकी मेहनत रोटी, कपड़ा, मकान के लिए नहीं होती। इन लोगों की मेहनत परिवार के सपने पूरे करने में भी नहीं होती। इन लोगों की मेहनत पूरे देशवासियों को आसानी से रोटी, कपड़ा, मकान मिल सके।” इस सच्चे और महत्वपूर्ण उद्देश्य पर होती है। इनकी मेहनत करने का तरीका और उद्देश्य सार्वजनिक होता है।  इनका हर काम जनता की खुशी के लिए होता है।

4. बगैर सफल हुए छोड़ते नहीं (Do not leave without succeeding)

 दोस्तों, सफलता हासिल करने की कोशिश, मैं समझता हूं हर कोई करता है। पर सफलता के लिए कोशिश करने का एक बड़ा राज है और वह राज है, “अगर किसी ने सफलता प्राप्त करने के लिए समय डिसाइड कर लिया है, “समय निर्धारित कर लिया है, कि अगर तय समय में सफलता नहीं मिलती है, तो वह उस काम को छोड़ देंगे। आप यकीन मानिए दोस्तों यहां पर 95% लोग उस काम को बीच में ही छोड़ देते हैं।” इसी वजह से असफलता का ग्राफ तेजी से बढ़ता है। गरीब बच्चे जो बड़े होकर सफल बनते हैं। उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं होता है। उन्हें तो लगता है अगर सफल नहीं हुए तो मेरे जीवन का कोई महत्व नहीं रह जाएगा। किसी काम को इसी उद्देश्य को संकल्प को तोड़ना इनकी डिक्शनरी में है ही नहीं। यह चार काम जो गरीब बच्चा करता है, या फिर अब करेगा। उसे भारत की शक्ति, हिम्मत और सर्वोच्च स्थान तक पहुंचने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती।

और पढ़िए:-

Sharp Mind | स्वामी विवेकानंद जी ने बताएं दिमाग को तेज करने के 4 अचूक मंत्र

By Swami Vivekananda स्वामी जी ने बताये इंसान की हार के 4 अदृश्य कारण

Confidence |आत्मविश्वास की ताकत, यह जानने के बाद खूब बढ़ेगा कॉन्फिडेंस

Swami Vivekananda स्वामी जी ने बताया सुखी जीवन का रहस्य The Secret of Life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *